मप्र में एक वर्ष में 5310 रेप, पहला राज्य बना मप्र

By 01:47 PM, 17.March 2018 Custom Tag

भोपाल. मप्र का पहला ऐसा राज्य बन गया है जहां ज्यादती की घटनाओं में 5 हजार का आंकड़ा पार हो गया है। 2017 में 5310 ज्यादती की घटनाएं प्रदेशभर के थानों में दर्ज हुई हैं। यानी प्रतिदिन लगभग 15 ज्यादती की घटनाएं। वर्ष 2016 के मुकाबले 2017 में यहां महिलाओं और नाबालिगों से ज्यादती की घटनाओं में 8.76%  का बढ़ोत्तरी हुई है। यह चौकाने वाले आंकड़े पुलिस मुख्यालय (पीएचक्यू)  ने जुटाए हैं। जल्द ही इन्हें नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरों एनसीआरबी को भेजा जाएगा।
2015 के मुकाबले 2016 में ज्यादती के मामले बढ़े
प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह कह रहे हैं कि छेड़छाड़, ज्यादती की घटनाएं नहीं रूकी तो अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अहम बात यह है कि भूपेंद्र सिंह के कार्यकाल में ज्यादती की घटनाओं में सबसे ज्यादा इजाफा हुआ है। हालांकि 2015 के मुकाबले 2016 में ज्यादती के मामले 11.18% बढ़ोतरी हुई थी जो 2017 में लगभग ढाई फीसदी घटी।
नाबालिगों के साथ ज्यादती करने वाले ज्यादातर रिश्तेदार
नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के वर्ष 2016 का आंकड़ा खंगाला तो चौंकाने वाले परिणाम सामने आए। 2016 में प्रदेशभर में ज्यादती के 4789 अपराध दर्ज हुए हैं। 1115 पड़ोसियों ने भरोसे का कत्ल किया और ज्यादती की। 35 आरोपी सगे संबंधी बने जबकि 108 आरोपी वे हैं जो पारिवारिक सदस्य थे। 157 रिश्तेदारों ने नाबालिगों के साथ ज्यादती की वारदात को अंजाम दिया है।
पिछले वर्ष भी रेप के सबसे अधिक मामले मप्र में दर्ज
एनसीआरबी की क्राइम इन इंडिया 2016 रिपोर्ट के अनुसार 2016 में यूपी में हत्या और महिलाओं के खिलाफ हिंसा और अपराध सबसे अधिक हुए थे। यहां हत्या के 4,889 (16.1%) और महिलाओं के खिलाफ हिंसा व अपराध के 49,262 मामले (14.5%) दर्ज किए गए। वहीं रेप के सबसे अधिक 4882 मामले मप्र में दर्ज हुए जो कुल घटनाओं का 12.5% है। 2014 और 15 में भी राज्य में रेप के सबसे ज्यादा मामले दर्ज हुए थे।
www.newsmailtoday.com से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिये हमें  फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

By 01:47 PM, 17.March 2018Custom Tag
Write a comment

 Comments

खबर अभी अभी