तैराकी के अनेकों फायदे : रुस्तम सिंह

By 10:08 PM, 12.August 2016 Custom Tag


सीसुबल में क्रॉस कन्ट्री चैम्पियनशिप आयोजित 
टेकनपुर। ३१वीं अंतर सीमान्त इक्वेटिक प्रतियोगिता एवं ४१वीं क्रास कन्ट्री चैम्पियनशिप २०१६-१७ का आयोजन सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर ग्वालियर के प्रांगण में मौजूद ब्रिगेडियर बीसी पाण्डे तरण ताल में आयोजित किया गया। 
इस प्रतियोगिता में गुजरात, कश्मीर, जम्मू, पंजाब, राजस्थान, गुजरात, साउथ बंगाल, नोर्थ बंगाल, गुवाहाटी, सिलौंग, एमएण्डसी एवं त्रिपुरा फ्रन्टियर्स की ११ टीमों में ४५० प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता में तैराकी, डाईविंग व १२ किलोमीटर क्रॉस कंट्री दौ$ड का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता के अलग-अलग वर्गों में कड़े मुकाबले हुए तथा विजयी प्रतिभागियों को १६५ मैडल वितरित किए गए। प्रतियोगिता के तैराकी वर्ग में सर्वाधिक १२१ अंकों के साथ एम एण्ड सी फ्रन्टियर प्रथम स्थान पर रहा। १०६ अंकों के साथ साउथ बंगाल फ्रन्टियर दूसरे स्थान पर रहा और ५७ अंकों के साथ त्रिपुरा फ्रन्टियर तीसरे स्थान पर रहा। आरक्षक प्रशंजीत देब को सर्वश्रेष्ठ तैराक के खिताब से नवाजा गया। ड्राइविंग स्प्रिंग क्रमश: त्रिपुरा मेघालय व गुवाहाटी (संयुक्त) सीमांत ने प्रथम व द्वितीय स्थान प्राप्त किया। ड्राइविंग हाई बोर्ड में क्रमश: मेघालय, दक्षिण बंगाल व जम्मू (संयुक्त) सीमांत ने प्रथम व द्वितीय स्थान प्राप्त किया। 
अकादमी टेकनपुर में उपरोक्त प्रतियोगिताओं का समापन समारोह आयोजित किया गया। इस समारोह में मंत्री रूस्तम सिंह मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। प्रतियोगिता का उददेश्य सीमा सुरक्षा बल में कार्यरत जवानों की प्रतिभा को उजागर करना एवं सीसुबल के लिए एक मजबूत टीम का गठन करना है, ताकि इन खिलाडि़यों को राष्ट्रीय व अंर्तराष्ट्रीय खेलों में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने का मौका मिल सके एवं सीसुबल के साथ-साथ भारत देश का नाम विश्व में रोशन कर सकें। केबिनेट मंत्री रूस्तम सिंह ने अकादमी टेकनपुर में चल रहे ३१वीं अन्तर सीमान्त एक्वेटिक व ४१वीं अन्तर सीमान्त क्रॉस-कन्ट्री प्रतियोगिता में सीसुबल के विभिन्न सीमान्तों की टीमों के बीच कड़ी स्पर्धा के रोमांचक खेल देखकर प्रसन्नता जाहिर की।
मंत्री रूस्तम सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि तैराकी के अनेकों फायदे हैं। इससे न सिर्फ शरीर स्वस्थ रहता है बल्कि यह मानसिक स्फूर्ती व मनोरंजन का भी साधन है। इस कला से जरूरत के वक्त किसी का जीवन भी बचाया जा सकता है। तैराकी से शरीर पर तनाव कम होता है। इसके अनगिनत फायदे है। इसी तरह से क्रॉस-कन्ट्री भी शारीरिक स्ट्रेंथ व इंडुरेन्स का सोपान माना जाता है।  रूस्तम सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रण पर अकादमी के उप निदेशक आर एस मनराल का आभार व्यक्त किया। महोदय ने कहा कि यह बेहद प्रसन्नता का विषय है कि इस प्रतियोगिता में सभी प्रतिभागियों ने बढ़ चढ़कर पूरे जोश के साथ हिस्सा लिया व ज्यादा से ज्यादा पदक प्राप्त कर अपने सीमान्तों का नाम रोशन किया। साथ ही बल के लिए एक सशक्त टीम के गठन की नींव रखी। ३१वीं अंतर सीमान्त इक्वेटिक प्रतियोगिता एवं ४१वीं क्रॉस कन्ट्री चैम्पियनशिप २०१६-१७ के समापन समारोह में राजेन्द्र सिंह मनराल आईजी/डिप्टी डायरेक्टर सीसुबल अकादमी टेकनपुर, एस के श्रीवास्तवा महानिरीक्षक (चिकित्सक), कैलाश चन्द्र जाट डीआईजी/आयोजक सचिव, बीएस रावत डीआईजी/मुख्य प्रशासनिक अधिकारी, पीएस बेन्स डीआईजी, सीमा सुरक्षा बल के वरीष्ठ अधिकारीगण, स्थानीय पत्रकार एवं अकादमी परिवार के अन्य कार्मिक उपस्थित थे।   

By 10:08 PM, 12.August 2016Custom Tag
Write a comment

 Comments

खबर अभी अभी